पाँच फायदे: शिमला मिर्च में क्या खास बात है?

शिमला मिर्च न केवल सस्ती और स्वादिष्ट होती है बल्कि यह एक ऐसी सब्जी है जिसे कच्चा भी खाया जा सकता है और पका कर भी जबकि यह किसी भी प्रकार के सलाद में डालने के लिए भी बेहतरीन है। इसे ओमेलेट्स, करी, शोरबा के साथ-साथ मांस व्यंजन में भी डाला जा सकता है।
अरब न्यूज़ में प्रकाशित एक लेख में पर्सनल ट्रेनर और  फिट स्क्वाड डी एक्स बी में आहार कोच के रूप में अपनी सेवा देने वाली देवेंद्र बैंस आपको शिमला मिर्च के उपयोग के बारे में कुछ सुझाव देती हैं ।
वो शिमला मिर्च के पांच लाभ बताती हैं जो आपके स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में मदद कर सकते हैं।

इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाना

शिमला मिर्च विटामिन सी से भरपूर होती है। लाल शिमला मिर्च में संतरे से लगभग दो गुना ज्यादा विटामिन सी होता है जो की रक्त में सफेद कोशिकाओं के लिए महत्वपूर्ण होता है। जिसे संक्रमण से लड़ने के लिए आवश्यक माना जाता है। जब शरीर विटामिन सी बनाने या संग्रहीत करने में असमर्थ होता है तो ज़रूरी है की इसे भोजन से प्राप्त किया जाए।

अच्छी त्वचा

यह स्वादिष्ट 'फल' बीटा-कैरोटीन से भरा होता है, जिस के कारण शिमला मिर्च देखने में भी अच्छी लगती है। बीटा-कैरोटीन शरीर में प्रवेश करता है और विटामिन ए में परिवर्तित हो जाता है, जो तेजी से ठीक होने में मदद करता है। यह महामारी से बचाता है और त्वचा में नमी बनाए रखता है।
इसी तरह विटामिन ए ही डर्मिस और एपिडर्मिस यानि त्वचा की दो परतों की भी रक्षा करता है। विटामिन सी शरीर में कोलेजन बनने में भी मदद करता है जो त्वचा को नींव प्रदान करता है और झुर्रियों को कम करने में भी मदद करता है।

कैंसर से लड़ने में मदद करता है

उसी तरह इसमें पाए जाने वाले बहुत छोटे पोषक तत्व अपने अंदर कैंसर से लड़ने की क्षमता रखते हैं। शिमला मिर्च खाने से लिवर और प्रोस्टेट कैंसर का खतरा कम होता है। रेसर्च से यह भी पता चलता है कि जिन खाद्य पदार्थों में फ्लेवोनॉयड्स (सफेद और पीले रंग के पदार्थ ) शामिल हों वह  स्तन कैंसर का कारण बनने वाली कोशिकाओं की वृद्धि को रोकने में मदद कर सकते हैं।

मिटाबोलिज़्म में सुधार

मिटाबोलिज़्म में सुधार आता है। शिमला मिर्च शरीर की गर्मी के उत्पादन में सुधार कर सकती है। हालांकि यह लाल मिर्च की तुलना में कम होती है, लेकिन मिटाबोलिज़्म में सुधार करती है, जिसका अर्थ है कि आप सामान्य रूप से अधिक कैलोरी जलाते हैं और वह भी पसीने के बिना जो मसालेदार भोजन खाने से आते हैं।

आँखों के लिए लाभदायक

विटामिन ए का एक अन्य लाभ यह है कि यह कॉर्निया (आंख की बाहरी सतह) की रक्षा करता है और रेटिना (आंतरिक भाग) में सुधार करता है, जिस से आँख की देखने की ताकत में सुधार होता है। और उम्र बढ्ने के साथ आँख में कमजोरी पैदा होने की प्रक्रिया धीमी होती है।

अपना कमेन्ट लिखें

कृपया कमेंट बॉक्स में किसी भी स्पैम लिंक को दर्ज न करें।

और नया पुराने
Sidebar ADS

asbaq.com

हिन्दी न्यूज़ की लेटैस्ट अपडेट के लिए हमे टेलीग्राम पर जॉइन करें

क्लिक करके जॉइन करें