दारुल उलूम का फैसला: भारत में 16 जून को होगी ईद

(दारुल उलूम देउबंद) आज 29 रमज़ान 1439 हिजरी को रूयत हिलाल कमेटी की मीटिंग मगरिब की नमाज़ के बाद होई जिसमें वह लोग उस्ताद और मुफ़्ती हजरात शामिल होए जिनका नाम अलग कागज़ पर फोने नंबर के साथ लिख होआ है
मगरिब की नमाज़ के बाद जादातर जगहों से चाँद न निकालने की ख़बरें आईं और आसमान पर भी बादल और धुल मिटटी की ख़बरें थीं इस वजह से चाँद निकालने की कोई पक्की खबर जिस पर भारूसा किया जा सके हासिल नहीं होसकी
और दोसरी बैठक रात 10:30 बजे मेहमान खाना में होई इस में गुजरात के कई इलाके से चाँद देखे जाने की खबर मिली जिन पर कमेटी के लोगों ने गौर किया
सोबूत रूयत के लिए वाजिब तरीका होना ज़रूरी है यानि की चाँद देखे जाने की गवाही ज़रूरी है या किसी दर्जे में खबर सही हो इस पर यकीन का पाया जाना ज़रूरी है और यहाँ इन चीज़ों में से कोई भी चीज़ नहीं पाई गई इस लिए हिलाल कमेटी ने चाँद न देखे जाने का फैसल किया




हज़रत मौलना अबुल कासिम साहब मोहतमिम दारुल उलूम की आवाज़ चाँद न निकालने की खबर देते होए : ऑडियो सुने

अपना कमेन्ट लिखें

कृपया कमेंट बॉक्स में किसी भी स्पैम लिंक को दर्ज न करें।

और नया पुराने
Sidebar ADS

asbaq.com

हिन्दी न्यूज़ की लेटैस्ट अपडेट के लिए हमे टेलीग्राम पर जॉइन करें

क्लिक करके जॉइन करें