स्थानीय लोग मस्जिद अल-हरम के बजाय पास की मस्जिदों में तरावीह अदा करें


(मक्का/सऊदी अरबिया) स्थानीय लोग मस्जिद अल-हरम के बजाय पास की मस्जिदों में तरावीह अदा करें। हरम मक्की शरीफ में असाधारण भीड़ है जिस की वजह से स्थानीय लोग दोसरे मुल्कों से ए होए ज़ायेरीन को मौक़ा दें। इस्लामी मामलों, दावत और इरशाद ने सऊदी नागरिकों और विदेशियों से अपील की है कि हरम मक्की शरीफ में असाधारण भीड़ है स्थानीय लोग हरम मक्की शरीफ के बजाये पास की मस्जिदों तरावीह पढ़ें और दोसरे मुल्कों से होए  लोगो के लिए अपना दिल बड़ा करें।
मंत्रालय ने तमाम मस्जिदों के इमामों को निर्देश दिया है कि वे नमाज़ियों से अपील करें कि वे स्थानीय मस्जिद में तरावीह पढ़ें। मंत्रालय ने बयान में कहा कि हरम की  सीमाओं के अंदर सभी मस्जिदों में नमाज़ पढ़ने का सवाब वैसा ही है जैसा हरम शरीफ में नमाज़ पढने का है।
स्थानीय लोग चाहे वे सऊदी नागरिक हों, या विदेशी उन्हें चाहिए कि वह हरम की सीमा में मौजूद किसी भी मस्जिद में तरावीह पढ़ें दोसरे देशों से अये होए लोगों को औसर दें। आराम और संतुष्टि से पढ़ी जाने वाली नमाज़ भीड़ और  लोगों को चोट पहुँचाने से बेहतर है।
मंत्रालय ने मक्का में जगह जगह बोर्ड भी स्थापित करदिये हैं जिन में स्थानीय लोगों को अपने महल्ले की मसाजिद में तरावीह पढने की तलकीन की गई है।

अपना कमेन्ट लिखें

कृपया कमेंट बॉक्स में किसी भी स्पैम लिंक को दर्ज न करें।

और नया पुराने
Sidebar ADS

asbaq.com

हिन्दी न्यूज़ की लेटैस्ट अपडेट के लिए हमे टेलीग्राम पर जॉइन करें

क्लिक करके जॉइन करें