सोशल मीडिया पर किसी भी व्यक्ति को बदनाम करना अपराध है

सोशल मीडिया पर किसी भी व्यक्ति को बदनाम करना अपराध है 


(रियाद/सऊदी अरबिया) पब्लिक प्रोसिकुशन ने खबरदार किया है कि किसी भी शख्स को बदनाम करना और सोशल मीडिया समेत किसी भी ज़रिये से इसे किसी प्रोगार्म, किसी विडियो क्लिप और किसी तब्सेरे के ज़रिये नुकसान पहुँचाने पर सजा मुक़र्रर है।
यह अपराध गिना जाता है। इस पर 5 बरस क़ैद और 30 लाख रियाल जुरमाना मुक़र्रर है। पब्लिक प्रोसिकुशन ने तवज्जुह दिलाई कि मुल्की नेज़ाम को नुकसान पहुँचाना या इंटरनेट के ज़रिये किसी भी व्यक्ति के निजी जीवन की पवित्रता को पामाल करना दंडनीय अपराध है। इस पर क़ैद और जुरमाना होगा।

पब्लिक प्रोसिकुशन का कहना है कि कुछ लोग घरेलू प्रणाली या धार्मिक मूल्यों या सामाजिक शिष्टाचार या व्यक्तिगत जीवन की पवित्रता को कुचलने में ज़रा भी झिझक महसूस नहीं करते और वे इंटरनेट के माध्यम से अफवाहें फैलाकर इस तरह की हरकतें कर रहे हैं जिस पर उन्हें क़ैद और जुर्माने की सजा होसकती है।

अगर यह खबर आप हमारे एंड्राइड एप्प पर पढ़ रहे है तो फिर आप यह ज़रूर लिखें की आप को यह एप्प कैसा लगा अगर अच्छा लगा तो दोस्तों को भी शेयर करें।
और अगर यह खबर आप हमारी वेबसाइट पर पढ़ रहे है तो आप को बता दें की हमारा एंड्राइड एप्प प्ले स्टोर में अपलोड होचुका है लिंक निचे दी गई है उस पर क्लिक कर के डाउनलोड कर लें और और इस तरह की हर नई अपडेट से बाखबर रहें।

अपना कमेन्ट लिखें

कृपया कमेंट बॉक्स में किसी भी स्पैम लिंक को दर्ज न करें।

और नया पुराने
Sidebar ADS

asbaq.com

हिन्दी न्यूज़ की लेटैस्ट अपडेट के लिए हमे टेलीग्राम पर जॉइन करें

क्लिक करके जॉइन करें